राजस्थानराज्यवार खबरें

उपचार के बाद 112 कोरोना पॉजीटिव हुए नेगेटिव – चिकित्सा मंत्री

प्रदेश में की जा रही हैं 1500 से ज्यादा जांचें

जनमत पत्रिका जयपुर, 11 अप्रेल। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कहा कि प्रदेश में प्रतिदिन 1500 से ज्यादा जांचें हो रही हैं और 2500 से ज्यादा जांचें की जा सकती हैं। उन्होंने कहा कि यह सुखद बात है कि उपचार के बाद प्रदेश में 112 लोग पजीटिव से नेगेटिव में तब्दील हुए हैं। इनमें से 52 लोगों को तो अस्पताल से डिस्चार्ज भी कर दिया है।

चिकित्सा मंत्री ने कहा कि सरकार का पूरा ध्यान अधिक से अधिक जांचें करने पर है और व्यापक स्तर पर जांचें की भी जा रही हैं। यही वजह है कि राजस्थान देश में जांच करने के मामले में दूसरे नंबर पर है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार को टेस्टिंग किट और पीसीआर किट के लिए कहा जा चुका है। इनके आने के बाद जांचों में और गति आएगी और प्रदेश में कोरोना की वास्तविक स्थिति का पता कर पाएंगे।

प्रदेश में बनाए 55 कोविड अस्पताल

डॉ. शर्मा ने कहा कि सरकार कोरोना को हराने के लिए पूरी तरह मुस्तैद है। प्रदेश भर में 55 कोविड-19 डेडिकेटेड अस्पताल बनाए हैं। इनमें से 27 निजी और 28 सरकारी क्षेत्र के हैं। यहां केेवल कोरोना से जुडे उपचार की ही व्यवस्था की गई है। साथ ही कोरोना को समुदाय में फैलने से रोकने के लिए 40 से ज्यादा शहरों में कर्फ्यू लगा रखा है। उन्होंने बताया कि राज्य में 2 बजे तक 24 जिलों के 678 लोग कोरोना पजीटिव चिन्हित हुए हैं। इनमें से 10 जिले ऎसे हैं, जहां पजीटिव की संख्या दहाई भी नहीं है।

देश और प्रदेश में एक स्वरूप में हो लकडाउन

चिकित्सा मंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार ने 22 मार्च से और उसके बाद केंद्र सरकार ने 24 मार्च से लॉकडाउन कर दिया था। उसकी अवधि 14 अप्रेल को पूरी हो रही है। लॉकडाउन के बारे में मुख्यमंत्री की होटेलियर्स, निजी अस्पतालों, मंडी वाले, खाद्य एवं व्यापार मंडल, किसान, उद्योगपतियों सहित कई तबकों के लोगों से बात हुई है। उनके सुझाव लिए गए।
सभी ने लॉकडाउन को बरकरार रखने की मंशा जाहिर की है। उन्होेंने कहा कि प्रधानमंत्री से आज हुई वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में भी मुख्यमंत्री ने यही बात रखी कि लॉकडाउन देश और प्रदेश में एक स्वरूप में ही रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि राज्य में कोरोना को लेकर उच्च स्तर पर मॉनीटरिंग की जा रही है। स्वयं मुख्यमंत्री इसके प्रति बेहद गंभीर हैं और पल-पल की रिपोर्ट लेते रहते हैं।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close