बीकानेरराजस्थान

बिश्नोई आत्महत्या मामला : सिस्टम पर उठे कई सवाल, पढ़े दिन भर में क्या हुआ

जनमत पत्रिका, बीकानेर। बीकानेर संभाग में चुरू जिले के राजगढ़ पुलिस थाना अधिकारी विष्णुदत्त विश्नोई ने शनिवार अलसुबह अपने सरकारी क्वार्टर में फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। सुबह काफी देर तक उनके क्वार्टर से बाहर नहीं आने पर स्टॉफ ने दरवाजा खोलकर देखा तो विश्नोई के आत्महत्या करने की बात सामने आई।

घटना की जानकारी मिलते ही बीकानेर रेंज के महानिरीक्षक जोस मोहन व चुरु पुलिस अधीक्षक तेजस्विनी गौतम सहित आला अधिकारी और एफएसएल टीम मौके पर पहुंची। मौका मुआयना करने के बाद शव को अस्पताल ले जाया गया। पुलिस को घटनास्थल से एक सुसाइड नोट भी मिला, जिसमें आत्महत्या के लिए माता-पिता से माफी मांगते हुए छोटे भाई से परिवार की जिम्मेदारी संभालने के लिए कहा है।
पता चला है कि आत्महत्या से एक दिन पहले इंस्पेक्टर विष्णु दत्त ने अपने परिचित सोशल एक्टिविस्ट से वॉट्सएप पर चैटिंग की थी, जिसमें लिखा था कि उन्हें गंदी राजनीति के भंवर में फंसाने की कोशिश हो रही है। ऐसे में वह अब स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति के लिए आवेदन करने वाले है। यहां के ऑफिसर बहुत कमजोर हैं। इस वॉट्सएप चैटिंग के स्क्रीन शॉट भी सोशल मीडिया पर वायरल हो गए।

मामले में डीजीपी भूपेंद्र सिंह का कहना है कि इसकी जांच करवाई जाएगी। उधर, इस मामले को लेकर विपक्ष के नेता धरने पर बैठ गए। उधर, थाना अधिकारी की आत्महत्या के बाद स्थानीय लोग धरने पर बैठ गए और स्थानीय कांग्रेस विधायक के खिलाफ नारेबाजी कर रहे हैं। इनका आरोप है कि विधायक मृतक थाना अधिकारी पर गलत काम करने के लिए दबाव बनाते थे।

इस मामले में पुलिस कई पहलुओं पर जांच कर रही है। जांच पूरी होने के बाद ही घटना से कारणों का पता चल सकेगा। वहीं, इस घटना के बाद परिजनों में शोक की लहर दौड़ गई है।

आत्महत्या या हत्या?
बीकानेर चूरू राजगढ़ थाना अधिकारी विष्णुदत्त विश्नोई द्वारा पंखे से फांसी लगाकर आत्महत्या कर लिए जाने के मामले को लेकर तरह -तरह की बातें निकल कर सामने आ रही है। सूत्रों के अनुसार विष्णुदत्त विश्नोई ने अपनी ईमानदारी के बल पर राजगढ़ थाना क्षेत्र में नई इबारत लिखी थी और इसी ईमानदारी को हजम नहीं करने के कारण कुछ कथित राजनेता उन्हें लगातार परेशान करते चले आ रहे थे। सूत्र यह भी बताते हैं कि विष्णुदत्त विश्नोई ने अपनी परेशानी से वरिष्ठ अधिकारियों को भी अवगत करवाया था किंतु विगत काफी समय से उनकी कहीं सुनवाई नहीं होने के कारण कथित रूप से प्रताड़ित होकर बिश्नोई ने यह कदम उठाया है।
इधर विष्णुदत्त विश्नोई द्वारा आत्महत्या कर लिए जाने का समाचार मिलते ही न केवल संपूर्ण राजगढ़ थाना जार- जार रो रहा है बल्कि राजगढ़ के नागरिक भी अपने-अपने प्रतिष्ठान बंद करके थाने के सामने एकत्र हो गए हैं। और विष्णुदत्त बिश्नोई द्वारा आत्महत्या किए जाने को उनकी हत्या बताते हुए आरोपियों की तलाश कर उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की मांग कर रहे हैं ।राजगढ़ के नागरिक थाना के समक्ष “हत्यारों को फांसी दो विष्णुदत्त विश्नोई अमर रहे ” जैसे नारे भी लगा रहे हैं। फिलहाल पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी राजगढ़ पहुंच रहे हैं और मामले में क्या नया मोड़ आता है यह शाम तक पता चल सकेगा।
यहां यह उल्लेख करना भी उचित है कि विष्णुदत्त विश्नोई जहां कहीं भी रहे उन्होंने सर्वप्रथम उन थानों की रूपरेखा बदल कर आम नागरिकों के लिए सुविधाओं का प्रत्यारोपण किया। विश्नोई को सदैव थाना भवनों के सुधार की तरफ अग्रसर करने वाले अधिकारी के रूप में जाना जाएगा।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close