बीकानेर

कलेक्टर ने बीकानेर सहित नापासर व देशनोक का किया दौरा

विभिन्न चैक पोस्ट का किया निरीक्षण

होमक्वाॅरेंटाइन हुए लोगों के निवास पर पहुंचे

नियमित स्वास्थ्य परीक्षण के दिए निर्देश

जनमत पत्रिका, बीकानेर, 14 मई। जिला मजिस्ट्रेट एवं जिला कलक्टर कुमार पाल गौतम ने  गुरुवार को जिला मुख्यालय पर लोक डाउन और निषेधाज्ञा क्षेत्र का भ्रमण कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया। उन्होंने तुलसी सर्किल, मॉडर्न मार्केट, महात्मा गांधी मार्ग और फड़ बाजार सहित विभिन्न स्थानों में भ्रमण कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया और आमजन से बातचीत कर उन्हें समझाइश भी की। उन्होंने कहा कि  लॉक डाउन के चलते जारी एडवाइजरी की हमें  पालना करनी है।  
कुमार ने फड बाजार एरिया क्षेत्र का भी निरीक्षण करते हुए यहां  महिला और पुरुषों से मिले और उनसे पूछा कि आपके क्षेत्र में खाद्य सामग्री, दूध आदि की उपलब्धता है या नहीं। इस दौरान उन्होंने क्षेत्र में कानून व्यवस्था के बारे में भी जानकारी प्राप्त की। वे फड़ बाजार होते हुए मुख्य डाकघर पुराना बस स्टैंड और सार्दुल सिंह सर्किल पहुंचे और व्यवस्थाओं का जायजा लिया।


मास्क का किया वितरण 

जिला कलक्टर ने जयपुर रोड पर लगे चेकपोस्ट का निरीक्षण किया और यहां कार्य कर रहे चिकित्सक, चिकित्सा कर्मी, राजस्व और पुलिसकर्मियों को मास्क प्रदान किए।  उन्होंने कहा कि यह मास्क लगाएं और सुरक्षित रहते हुए राज्य कार्य को अंजाम दें । उन्होंने चैक पोस्ट पर आए प्रवासियों के भरे हुए फॉर्म आदि देखें और संधारित रजिस्टरों को भी देखा।  उन्होंने कहा कि अगर किसी प्रवासी की हिस्ट्री में बीमारी आती हो, तो उसकी संपूर्ण जानकारी तुरन्त दी जाए ताकि उचित कार्यवाही करवाई जा सके।  उन्होंने उपस्थित अधिकारियों व कर्मचारियों से कहा कि वे आने वाले हर व्यक्ति को समझाइश करें कि उन्हें घर  में ही रहना है ।


नापासर में स्टेट क्वाॅरेंटाइन सेन्टर का किया निरीक्षण-

जिला कलेक्टर ने नापासर में पहुचे प्रवासियों के बारे में उनके निवास स्थान पर जाकर जानकारी ली। वे श्रीमती गीतादेवी बागड़ी राजकीय बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय में बने स्टेट क्वॉरेंटाइन सेंटर, राठी, मूदड़ा व सेन चैक पहुंचे और रह रहे प्रवासियों के बारे में जानकारी ली। उन्होंने स्टेट क्वॉरेंटाइन सेंटर में अधिकारियों से नापासर पहुंचे प्रवासियों के बारे में जानकारी लेते हुए कहा कि नापासर मंे बाहर से बहुत से लोग आएं। ऐसे में आप इनपर निरन्तर निगाह रखे और किसी भी तरह की प्रवासियों द्वारा नियमों का उल्लघंन किया जाता है तो संबंधित एजेन्सी को सूचना दी जाए। उन्होंने यहां उपस्थित कर्मचारियों से कहा कि प्रत्येक व्यक्ति से बंधपत्र अवश्य भरवाए, और जिस  घर में रहेगा उसके मुखिया बंधपत्र  भी भरवाए।  उन्होंने यह भी कहा कि वे यह सुनिश्चित करें कि ऐसे सभी लोग जो होमकाॅरेटाइन में रह रहे हैं, उनके आसपास रहने वाले लोगों को भी समझाइश करें कि वह घर में रहे।  


आपको नापासर की बहुत चिंता है साहब-

 जिला मजिस्ट्रेट कुमार जब नापासर के विभिन्न मोहल्लों में घूम कर क्वॉरेंटाइन का जायजा ले रहे  थे तो वहां के नागरिकों ने एक स्वर में कहा कि सर आपको नापासर की बहुत चिंता है और समय-समय पर आप यहां आकर हम लोगों की हौसला अफजाई करते हैं।  इस पर कुमार ने कहा कि आप सभी का अब तक सहयोग रहा है और बाहर से जो लोगों के बारे में प्रशासन का आगे बढ़कर सहयोग कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि नापासर भामाशाहों के नाम से पहचाना जाता हैं। कस्बे में जो  जरूरतमंद हैं उन्हें मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध करवाने में सहयोग दें ताकि कोरोना के खिलाफ जो जंग है वह हम जीत सकें। स्वास्थ्य परीक्षण हो रहा है
कुमार ने नापासर में होम क्वॉरेंटाइन में रह रहे लोगों से बातचीत के दौरान उनसे यह पूछा कि आप सभी के  नियमित स्वास्थ्य परीक्षण के लिए चिकित्सा स्वास्थ्य विभाग की टीम आ रही है या नहीं। इस पर उन्हें बताया गया कि चिकित्सकों द्वारा उनका नियमित रूप से स्वास्थ्य परीक्षण किया जा रहा है।

कर्फ्यू जैसा माहौल क्यों हैं

जिला मजिस्ट्रेट कुमार ने नापासर के मार्केट को  देख कहा कि यहां पर कफ्र्यू जैसा माहौल दिखाई दे रहा है। उन्होंने इस बारे में वहां के लोगों, अधिकारियों और पुलिस से पूछा तो उन्हें बताया गया कि नापासर के सभी लोगों ने स्व निर्णय लेकर यह निश्चित किया है कि  नापासर के सभी बाजार सुबह 7.00 बजे से दोपहर 1.00 बजे तक ही खुलेंगे । इस दौरान नापासरवासी खरीदारी कर अपने-अपने घरों में लौट जाते। उन्हें बताया कि नापासर का प्रत्येक नागरिक अपनी जिम्मेदारी समझता है और इस विपदा में वह प्रशासन के साथ खड़ा हैं।


देशनोक में होम क्वॉरेंटाइन की ली जानकारी-

 जिला कलक्टर गौतम गुरुवार शाम को अचानक देशनोक पहुंचे तथा बाहर से आए तथा होम आइसोलेट किए प्रवासियों की जानकारी ली.। देशनोक में होम आइसोलेट किए गए कई लोगों के घर पहुंचे। उनके घर पहुंच कर पालिका द्वारा लगाए गए कार्मिकों की तथा चिकित्सा के बारे में जानकारी लेते हुए उन्होंने पूछा कि चिकित्सक उन्हें समय पर चेक करते हैं या नहीं।इसी तरह घरवालों, पड़ोसियों से भी पूछताछ की कि क्वॉरेंटाइन किए गए लोग अपने घरों से बाहर निकलते हैं या नहीं।  इस अवसर पर पालिका की अधिशासी अधिकारी राजल राव  तथा नायब तहसीलदार कैलाश दान सहित अन्य कर्मचारी उपस्थित थे ।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close