बीकानेर

कोलायत कोविड सेंटर की स्थापना अविलम्ब करें- मेहता

जनमत पत्रिका, बीकानेर, 28 जुलाई। जिला कलक्टर नमित मेहता मंगलवार शाम को कोलायत दौरे पर रहे। मेहता ने उपखंड अधिकारी कार्यालय में ब्लाॅक स्तरीय अधिकारियों की बैठक ली और जनता से जुडे हुए विकास कार्यों की समीक्षा करते हुए अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए।
जिला कलक्टर ने कोलायत मुख्यालय पर झझू रोड चैराहंे पर क्षतिग्रस्त रोड का निर्माण करवाने के निर्देश दिए। उन्होंने सार्वजनिक निर्माण विभाग के अधिकारी को निर्देश दिए कि चूंकि यह चैराहा निचाई पर है, यहां बरसात के दौरान पानी एकत्रित होने से आमजन को परेशानी का सामना करना पडता है। उन्होंने कहा कि इस रोड लेवल ऊंचा करके इसके दोनों ओर नालों का निर्माण करवाया जाए। उन्होंने झझू से हदां तक टूटी हुई रोड का पेचवर्क करवाने का आदेश दिया। उन्होंने झझू से दासोडी रोड का पेचवर्क कार्य करवाने के लिए टेंडर जारी करवाने के निर्देश दिए। उन्होंने खीन्दासर से दासोडी रोड का भी पेचवर्क करवाने के निर्देश दिए।

मेहता ने कोलायत में पेयजल की जानकारी लेते हुए कहा कि जिन क्षेत्रों में पानी प्रेशर से नहीं पहुंच रहा है, वहां पानी पहुंचाना सुनिश्चित करें, इसके लिए चाहे टेंकर ही क्यों न लगाने पडे। उन्होंने कृषि अधिकारी को निर्देश दिए कि जिन किसानों का प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत प्रीमियम कट चुका है उसकी राशि बैंकों के माध्यम से बीमा कम्पनी को भिजवाना सुनिश्चित करे।
जिला कलक्टर ने कोलायत क्षेत्र में बजरी खनन के मामलों की जानकारी ली तथा पुलिस विभाग व खनन विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि बजरी के ओवरलोड वाहन व अवैध बजरी खनन करने वालों के विरूद्ध सख्ती से पेश आते हुए चालान काटे जाए।

मेहता ने कोलायत ब्लाॅक में टिड्डी के प्रभाव की जानकारी ली तथा कृषि अधिकारी एवं तहसीलदार को निर्देश दिए कि जिन क्षेत्रों में टिड्डी बैठती है, उनकी निगरानी करें एवं जैसे ही टिड्डी निकलती है उसकों नष्ट करवाने की कार्यवाही करे।

मनरेगा की शिकायत पर हो प्रभावी कार्यवाही
जिला कलक्टर नमित मेहता ने विकास अधिकारी से कोलायत ब्लाॅक के मनरेगा कार्यों की समीक्षा की और कहा कि मनरेगा को लेकर बहुत शिकायतें मिल रही है। उन्होंने विकास अधिकारी को सख्त निर्देश दिए कि शिकायतकर्ता द्वारा की गई शिकायत यदि सत्य पाई जाती है तो सम्बन्धित ग्राम सेवक को निलम्बित किया जाए। उन्होंने मनरेगा कार्यों पर अधिक से अधिक महिला मेट लगाने के निर्देश दिए। साथ ही उन्होंने मनरेगा कार्यों की शिकायत को गंभीरता से लेते हुए जांच करवाने के निर्देश दिए।

कोविड एडवाइजरी का प्रचार-प्रसार हो-
मेहता ने कहा कि लाॅकडाउन खुलने के बाद मार्केट में चहलपहल बढ गई है, लोगों का आवागमन बढ गया है, सभी ब्लाॅक अधिकारी अपने स्तर पर कोरोना से सावचेत रहने के प्रति जागरूकता बढाएं। उन्होंने कहा कि लोगों को समझाएं की जाए कि इसका बचाव ही उपचार है, समझाने के बावजूद यदि कोई नहीं मानता है, तो उसका चालान काटे। राज्य सरकार ने बहुत से अधिकारियों को चालान काटने की शक्ति प्रदान की है।

कोलायत कोविड सेंटर की स्थापना अविलम्ब करें-
जिला कलक्टर ने ब्लाॅक सीएमओं डाॅ. अनिल वर्मा से कोलायत ब्लाॅक में कोविड की समीक्षा की और निर्देश दिए कि कोलायत के पशुचिकित्सालय में अतिशीघ्र कोविड सेंटर की स्थापना कर ली जाए। आवश्यक संसाधन स्थापित कर कोविड रोगियों को भर्ती किया जाए तथा गंभीर रोगियों को बीकानेर रैफर किया जाए।

उन्होंने राज्य सरकार की फ्लैगशिप योजनाएं, संपर्क पोर्टल, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता की विभिन्न पेंशन योजनाएं, बिजली, सड़क एवं स्वास्थ्य सेवाओं की प्रभावी माॅनिटरिंग करते हुए लोगों की समस्याओं के निस्तारण के निर्देश दिए। उन्होंने ब्लाॅक जिला शिक्षा अधिकारी को निर्देश दिए कि वे अपने क्षेत्राधिकार की सभी स्कूलों को पी.ई.ई.ओ. से इस आशय का प्रमाण पत्र ले की उनकी स्कूल में कोई भी विद्यार्थी  पालनहार योजना से वंचित नहीं है।

कोलायत स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र का  किया निरीक्षण- जिला कलक्टर ने सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र का भी निरीक्षण किया। उन्होंने जनाना व मर्दाना वार्ड, लेबर रूम, प्लास्टर रूम का निरीक्षण और चिकित्सा प्रभारी को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। उन्होंने हाॅस्पिटल की साफ सफाई व्यवस्था पर संतोष व्यक्त किया। उन्होंने हाॅस्पिटल में कोरोना रोगियों की जांच के लिए जा रहे सैम्पल के स्थान का भी निरीक्षण किया।

कपिल सरोवर का किया निरीक्षण-
जिला कलक्टर ने कोलायत के पवित्र कपिल सरोवर का निरीक्षण किया और उसके विभिन्न घाटों के बारे में जानकारी ली। उन्होंने कहा कि यह सरोवर बहुत ही सुंदर एवं साफ सुथरा है। उन्होंने विकास अधिकारी को निर्देश दिए कि इस सरोवर को माॅडल तालाब के रूप में लेकर मनरेगा के तहत विकास कार्य करवाया जाए। उन्होंने भगवान कपिल मुिन मंदिर के बाहर से ही दर्शन किए और भगवान कपिल के जीवनवृत्त के बारे में जानकारी ली। उन्होंने तपोभूमि के भी दर्शन किए।
बैठक में मुख्यकार्यकारी अधिकारी जिला परिषद नरेन्द्र पाल सिंह, अतिरिक्त आयुक्त उपनिवेशन प्रेमाराम परमार, प्रशिक्षु आई ए एस कनिष्क कटारिया, उपनिदेशक सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग एल डी पंवार, तहसीलदार हनुमान सिंह देवल, विकास अधिकारी दिनेश सिंह भाटी, ब्लाॅक सीएमओ डाॅ. अनिल वर्मा, अधीक्षण अभियंता जलदाय विभाग दीपक बंसल, अधीक्षण अभियंता सार्वजनिक निर्माण विभाग सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close