बीकानेर

पापड, भुजिया, रसगुल्ला उद्योग को मिली राहत

बीकानेर जिला उद्योग संघ की मेहनत लाई रंग किया केंद्रीय मंत्री मेघवाल का आभार व्यक्त

जनमत पत्रिका, बीकानेर । केन्द्रीय संसदीय कार्य, भारी उद्योग एवं लोक उद्यम राज्य मंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने जानकारी दी की बीकानेर के व्यापारियों को FSSAIके दिल्ली कार्यालय से अब लांइसेस नहीं लेना पडेगा।

बीकानेर का नाम पूरे विश्व में अपने भुजिया, पापड, रसगुल्ला के लिए प्रसिद्ध है। ये उद्योग भारत सरकार के सुक्ष्म और लघु उद्योग की श्रेणी में आता है तथाFSSAIद्वारा इसे रेडी टू ईट फूड श्रेणी में रखा गया है। परन्तु नई व्यवस्था के तहत भुजिया, पापड, रसगुल्ला को रेडी टू ईट फूड श्रेणी से हटाकर प्रोपाइटरी फूड श्रेणी में शामिल किया गया है जिस पर बीकानेर जिला उद्योग संघ ने केंद्रीय राज्य मंत्री अर्जुनराम मेघवाल को पत्र भिजवाकर इस व्यवस्था को रुकवाने का आग्रह किया । अध्यक्ष द्वारकाप्रसाद पचीसिया ने बताया कि इस व्यवस्था के लागु होने से उद्यमियों को इस श्रेणी के लायसेंस FSSAI से दिल्ली कार्यालय से लेने पडते तथा छोटे व्यापारियों को दिल्ली के चक्कर लगाने पडते। लाइंसेस का शुल्क भी पहले की अपेक्षा लगभग 2.5 गुणा ज्यादा देना पडता।

इस खबर से बीकानेर क्षेत्र के पापड, भुजिया, रसगुल्ला उद्योग से जुडे उद्यमियों में निराशा का माहौल था तथा इस संबंध में बीकानेर जिला उद्योग संघ ने केन्द्रीय मंत्री तथा बीकानेर से सांसद अर्जुनराम मेघवाल से हस्तक्षेप की मांग की मेघवाल ने अविलम्ब संबंधित उच्च अधिकारियों से इस विषय में बात की तथा पुनः विचार करने के लिए कहा।
मेघवाल ने बताया कि अब ये निर्णय लिया गया है कि इस निर्णय को 31 दिसम्बर 2020 तक लागू नहीं किया जाएगा तथा उद्यमियों को दिल्ली जाकर नये लाइंसेंस बनाने की आवश्यकता नहीं पडेगी।

मेघवाल ने बताया की आगे भी वे इस विषय में संबंधित मंत्रालय तथा उच्च अधिकारियों से चर्चा करेंगें तथा व्यापारियों एवं उद्यमियों के हित में ही उचित निर्णय कराएगें उन्होंने पापड भुजिया रसगुल्ला उद्यमियों को आश्वस्त करते हुए कहा कि इस व्यवसाय से जुडे उद्यमियों के हितों की हमेशा रक्षा की जाएगी।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close