बीकानेर

खाने की गुणवत्ता देख नाराज हुए कलेक्टर, दिए सुधारने के आदेश

जनमत पत्रिका, बीकानेर, 20 मई। बीकानेर के कोरोना क्वारंटाइन सेंटर में खाने की वीडियो वायरल होने के बाद बीकानेर जिला मजिस्ट्रेट एवं जिला कलेक्टर कुमार पाल गौतम ने कहा कि कोरोनावायरस संक्रमण की रोकथाम के लिए बनाए गए क्वेरंटाइन सेंटर (महेश्वरी धर्मशाला) तथा कोविड हाॅस्पीटल में भर्ती मरीजों को दिए जा रहे भोजन की गुणवता से कोई समझौता बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

गौतम ने बुधवार को को पीबीएम अस्पताल के रसोईघर में पहुंचकर भोजन की गुणवत्ता का आकस्मिक निरीक्षण किया। इस दौरान भोजन की गुणवत्ता पर असंतोष जताते हुए गौतम ने अधिकारियों को तुरंत प्रभाव से भोजन की गुणवत्ता में सुधार करने के निर्देश दिए।

गौतम ने कहा कि क्वेरटाइन सेंटर में लोगों को पूर्ण गुणवत्ता युक्त भोजन सहित अन्य खाने-पीने का सामान मिले इसके लिए सभी व्यवस्थाएं अप टू द मार्क रखी जाए। गुणवत्ता के साथ किसी भी स्तर पर समझौता नहीं होगा। उन्होंने कहा कि यदि कहीं भी खामी पाई गई तो राशन सामग्री की आपूर्ति करने वाली कार्यकारी एजेंसी के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी।

गौतम ने अधिकारियों को समस्त व्यवस्थाओं का नियमित निरीक्षण करते हुए व्यवस्थाएं तुरंत प्रभाव से ठीक करने के निर्देश दिए। इस दौरान गौतम ने वहां मौजूद स्टाफ से खाना बनाने की सम्पूर्ण प्रक्रिया की जानकारी ली कि किस प्रकार सब्जी रोटी बनती है और पैकिंग प्रोसेस कैसे रहता है। उन्होंने राशन भंडारण स्थल का भी निरीक्षण किया तथा वहां रखी सभी सामग्री की गुणवत्ता के बारे में जानकारी ली।

गौतम ने स्वयं आटे का पैकेट बाहर निकलवाया तथा धूप में ले जाकर आटे की गुणवत्ता की जांच की। उन्होंने प्राचार्य और अधीक्षक को स्पष्ट शब्दों में कहा कि प्रथम दृष्टया ही इस आटे की गुणवत्ता अच्छी नहीं लग रही है। जिला कलक्टर ने कहा कि राशन सामग्री की गुणवत्ता की जांच के साथ-साथ बोतलबंद पानी की भी गुणवत्ता जांची जाए।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close